मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Tuesday, March 8, 2011

मुसाफिर

मुसाफिर

गिरता - संभलता .. नादान मुसाफिर ,
अनजानी राहों पर...अनजान मुसाफिर |

महज एक निवाले की जद्दोजहद में ,
उड़ने को बेताब.... बेजान मुसाफिर |

बेचैन भीड़ में ... सुकून तलाशता ,
ग़मों से लबरेज .....दिलशान मुसाफिर |

सोने - चाँदी की चमक से चकाचौंध ,
दौलत से रौशन.... वीरान मुसाफिर |

उमड़ता - घुमड़ता.... तूफ़ान मुसाफिर ,
चंद घडी का ... मेहमान मुसाफिर |

                                                     "प्रवेश"

No comments:

Post a Comment