मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Thursday, December 29, 2011

जज्बा जरुरी है


जज्बा जरुरी है 


हाथ पर न हाथ धर देखो जमाने को 

मशाल तो बदलाव की लहू से जलती है |


सौ बार गिर जाओ मगर हिम्मत नहीं हारो 

दुनिया तो हिम्मत वालों के क़दमों पे चलती है |


जज्बा नहीं जिनमे कि कुछ कर के गुजर जायें 

दिन ख्वाबों में कटता है , शाम ख्वाबों में ढलती है |


उतर जाते हैं जो मैदान में , बाँधे कफ़न सर पर 

संग उनके हमेशा जिंदगी और मौत टहलती है |


खूबसूरती तारीफ का मुद्दा नहीं यारो 

तारीफ खुशदिल लोगो की दिल से निकलती है |


                                              "प्रवेश " 

No comments:

Post a Comment