मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Monday, December 19, 2011

हाइकु -माँ और मोटरसाइकिल


हाइकु -माँ और मोटरसाइकिल




एक हफ्ते से 

बिस्तर पर पड़ी 

खाँसती माता |


न दवा दारू 

मीठे बोल भी नहीं 

वक़्त न मिला |


थोड़ी आवाज 

मोटरसाइकिल 

करने लगी |


उसी पल ही 

ठीक करवा लाये 

मैकेनिक  से |

                             "प्रवेश "

No comments:

Post a Comment