मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Sunday, August 6, 2017

दिलों की दूरियाँ मोहब्बत से पाट आऊँ।
चुटकी भर इश्क सबको बाँट आऊँ।

तुम्हारे साथ फिर से शाम को घूमने निकलूं।
तुम्हारे साथ उसी ठेले पर चाट खाऊँ।

मैं चाहता हूँ फिर कोई ग़लती हो मुझसे ।
मैं चाहता हूँ फिर माँ की डाँट खाऊँ। ~ प्रवेश ~

No comments:

Post a Comment