मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Tuesday, August 18, 2015

इंसान बना देता है

हमें हमेशा लगता है
कच - कच करने से
बिगड़ जाती है बात
और पानी फेरना भी
इशारा इसी ओर करता है
लेकिन
वो छिड़कता है पानी भी
और करता है कच  - कच
देखते ही देखते
अमानुष को इंसान बना देता  है । ~ प्रवेश ~