मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Saturday, May 10, 2014

बुरा करके भला नहीं होता |

कुछ भी बेवजह नहीं होता ।
यूँ कोई बावला नहीं होता ॥

कीकर पर आम नही आते हैं ।
बुरा करके भला नहीं होता ॥

एक पहचान सच्चे यार की है ।
दोस्त कभी दोगला नहीं होता ॥

असर घर से मिली तालीम का है ।
हर कोई मनचला नहीं होता ॥

हारकर मायूस ना हो, हौंसला रख ।
बन्दा चाहे तो क्या नहीं होता ॥

सियासत अब तलक मेरी समझ से ।
यहाँ कोई सगा नहीं होता ॥ ~ प्रवेश ~ 

No comments:

Post a Comment