मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Saturday, March 2, 2013

काम प्यारा है

सूँघे भी ना
सूखी घास को
मगर घुटने टेक दे
जुआ देखकर
और धौंस जमाये
अधखिले सींगों की,
तो नहीं पालता
कोई भी किसान
ऐसे धरती के बोझ को,
और खुशामद नहीं करता
बिना दूध वाली
नखराली गाय की ,
दूध देने वाली
गाय को ही
लात मारने का हक है ।
                          " प्रवेश "

No comments:

Post a Comment