मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Saturday, February 9, 2013

छोरा हुआ है

छोरा हुआ है
एक ओर गला फाड़ - फाड़कर
महिलायें मंगल गीत गायेंगी,
और नये मेहमान के आने की
थाली बजाकर
खबर कर दी जायेगी
पूरे गाँव को ।
और दूसरी ओर
बोतलें खुलेंगी
पार्टी होगी
नामकरण तक लगातार ,
और दो बकरे कटेंगे
नामकरण के अगले दिन
पूरा गाँव दावत लेगा ।
ठीक दो साल पहले का
सन्नाटा अब तक याद है
जब मुँह लटकाकर
दादी ने कहा था
"छोरी हुई है ।"
                       " प्रवेश "



1 comment: