मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Saturday, September 29, 2012

आँसू

आँसू

यूं ही नहीं आते
आँसू किसी बहाने से ।
ये कुछ खोने से भी आते हैं
और आ जाते हैं कुछ पाने से ।
किसी बिछड़े के मिल जाने से ,
किसी अपने के बिछड़ जाने से ।
कभी मोती , कभी आँख का पानी
कई नाम मिले हैं आँसुओं को ज़माने से ।
ये हर आँख में बसते हैं
परहेज नहीं नये - पुराने से ।
छलक पड़ते हैं सूरमां की आँखों से भी
महज दो पलकों को आपस में मिलाने से ।
                                                                     "प्रवेश "

No comments:

Post a Comment