मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Friday, January 13, 2012

हाइकु - फिर रात गुजरी

हाइकु -फिर रात गुजरी 

सोते तुम्हारी

फिर रात गुजरी

रोते हमारी |


                         प्रवेश 

No comments:

Post a Comment