मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Sunday, January 8, 2012

वाह प्रवेश...!!


वाह प्रवेश...!!


वाह प्रवेश...!!

बड़े कमाल के हो तुम ,

जिसे ना मिलो 

वो अफ़सोस के आँसू बहाये 

और मिल जाओ जिसे 

वो ख़ुशी के आँसू

रोक ना पाये |

वाकई ... 

बड़े कमाल के हो तुम |


   प्रवेश

No comments:

Post a Comment