मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Tuesday, December 20, 2011

हाइकु - दहेज़


हाइकु - दहेज़ 


पीला रंग ही 

हाथ रंगने हेतु 

काफी  नहीं  है |


घुलता नहीं 

खून पसीने बिन 

ये रंग यारो |


दहेज़ लेते 

पढ़े - लिखे गँवार 

झिझके  बिन |


अमीर खुश 

गरीब ही बेहाल 

औ तंग यारो |


                 "प्रवेश " 

No comments:

Post a Comment