मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Friday, July 22, 2011

वो कौन है !!

वो कौन है !!

है नहीं दुश्मन अपिरिचित ,
परिचित ही उसकी चाल है |
फिर भी वार होता सीने पर ,
इस बात का मलाल है |

कौन खबरी है यहाँ ,
जो घर का देता भेद है !
खुद भी सवार है मगर ,
कश्ती में करता छेद है |

कोई तो है , दुश्मन के सिर पर ,
जिसका कृपामय हाथ है |
घर में घुस के मार दे ,
किसकी इतनी औकात है !

इतनी न हिम्मत करता , अगर 
मिलता उसे प्रश्रय नहीं |
वो मौत बाँटता फिरता है ,
उसे मौत का भी भय नहीं |

वो जो भी है , निश्चय ही 
सीने में उसके दिल नहीं |
इंसानियत का दुश्मन है ,
रिश्तों का भी कातिल वही |

ऐसा न हो कि बदल जायें 
इंसानियत के मायने |
असली चेहरे भी कहाँ ,
अब दिखाते हैं आईने !!


                                             "प्रवेश"

No comments:

Post a Comment