मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Wednesday, July 13, 2011

ला दो ढूँढकर

ला दो ढूँढकर 


कुछ अमन के पल सुहाने ,
चैन ला दो ढूँढकर |

बेख़ौफ़ होकर सो सकूं, 
वो रैन ला दो ढूँढकर |

अपनापन जिनमे दिखे ,
दो नैन ला दो ढूँढकर |

मचले हमें मिलने को ,
दिल बेचैन ला दो ढूँढकर |

                                                         "प्रवेश "

No comments:

Post a Comment