मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Monday, June 20, 2011

कल का अखबार

कल का अख़बार 

कल सुबह 
साईकिल की टोकरी में बैठकर 
इस घर तक आया था ,
सबसे पहले मुझे 
दादीजी ने देखा और 
दादाजी को बताया |
दादाजी ने बड़े प्यार से 
मेरा दीदार किया |
कभी मंद- मंद मुस्काए ,
कभी भौंहे चढ़ा ली |
धीरे -धीरे  मुझे 
हर सदस्य ढूँढने लगा |
किसी ने ' समाज '
किसी ने ' परिवार '
किसी ने 'खेल '
तो किसी ने 'शेयर '
एक - एक कर सभी पन्ने 
अलग कर दिए |
धीरे - धीरे सब अपने 
काम में व्यस्त होने लगे ,
जो जहाँ था उसने 
वहीँ पन्ने छोड़ दिये |
शाम होते - होते 
मेरी अहमियत 
समाप्त हो चुकी थी |
आज सुबह मेरे 
सभी पन्ने समेटे गये ,
और ' कल का अख़बार '
कहकर डाल दिया रद्दी में |
कल मेरी कीमत 
तीन रुपये थी ,
आज प्रति किलो तीन रुपये के 
ढेर में पड़ा हूँ |
कभी हाथों - हाथ लिया ,
कभी गोद में बिठाया ,
कभी सीने से लगाया ,
कभी चूमा भी मुझे कल तक ,
लेकिन आज ... आज मैं बेकार हूँ |
जी हाँ.. मैं कल का अख़बार हूँ |

                                               "प्रवेश "

2 comments:

  1. woooo....bahaut badhiya
    bechare akhbar ka hr roz yahi harsh hota hai

    ReplyDelete
  2. gunjan ji .. aajkal agle din insan ki kadra nahi hoti.. akhbar ka ye hasra to kuchh bhi nahi..

    ReplyDelete