मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Saturday, December 25, 2010

तलाश

तलाश 

हो जहाँ रंजिश नहीं,
और अमन हो आवाम में,
बेख़ौफ़ जिंदगी जहाँ,
मैं उस शहर को ढूंढता हूँ |

हों जहाँ हमराह सौ,
हमदर्द भी हों सैकड़ो,
हाथ थामे सब चलें,
मैं उस डगर को ढूंढता हूँ |

यूं तो मिलती हैं निगाहें,
रोज कितनी आखों से ,
हो प्यार जिस निगाह में,
ऐसी नजर को ढूंढता हूँ |

कश्ती अगर तूफ़ान से ,
डोले कभी मझधार में,
साहिल का पता दे दे ,
ऐसी लहर को ढूंढता हूँ |

मौत, भ्रष्टाचार, रिश्वत,
लूट की खबरें "प्रवेश",
चैनल बदल - बदल कर ,
इक अच्छी खबर को  ढूंढता हूँ |
                                                   प्रवेश

1 comment: