मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Monday, December 13, 2010

हाइकु - सौतेली माँ

सौतेली माँ 

अनुपम ने 
पाई माँ की ममता 
सौतेली माँ से |

बचपन में 
जब थक जाता था 
खेल - खेल में  |

माँ ने प्यार से 
सहलाया सिर को 
रख गोद में  |

बीता  शैशव 
लड़कपन आया 
बांह फैलाये |

चंद  दिनों में 
आ धमकी जवानी 
मूंछे निकली |

हो गयी शादी 
खूबसूरत पत्नी 
मन को भायी |

एक साल में 
हो गयी सौतेली माँ 
फिर   सौतेली |
                                प्रवेश

No comments:

Post a Comment