मेरा गद्य ब्लॉग - सोच विचार

Thursday, December 30, 2010

नया साल

नया साल 

यूं तो इस रस्म को 
चलते जमाना  हो गया  ,
पंचांग फिर गतवर्ष का 
देखो पुराना हो गया |
जो घटित होना था ,
कुछ घटा, कुछ ना घटा  ,
कुछ  घट गया ऐसा ,
जिसे मुश्किल जुड़ाना हो गया |
हर मजहब ,हर जाति का 
त्यौहार है यह नववर्ष  ,
आज तो हर कौम का 
जलसा सालाना हो गया |
___________________________
खुशहाल सब जन हो यहाँ ,
फैले लहर बस हर्ष की ,
सम्पूर्ण मानव जाति को 
शुभकामना नववर्ष की  |
___________________________
                                                              प्रवेश

Saturday, December 25, 2010

तलाश

तलाश 

हो जहाँ रंजिश नहीं,
और अमन हो आवाम में,
बेख़ौफ़ जिंदगी जहाँ,
मैं उस शहर को ढूंढता हूँ |

हों जहाँ हमराह सौ,
हमदर्द भी हों सैकड़ो,
हाथ थामे सब चलें,
मैं उस डगर को ढूंढता हूँ |

यूं तो मिलती हैं निगाहें,
रोज कितनी आखों से ,
हो प्यार जिस निगाह में,
ऐसी नजर को ढूंढता हूँ |

कश्ती अगर तूफ़ान से ,
डोले कभी मझधार में,
साहिल का पता दे दे ,
ऐसी लहर को ढूंढता हूँ |

मौत, भ्रष्टाचार, रिश्वत,
लूट की खबरें "प्रवेश",
चैनल बदल - बदल कर ,
इक अच्छी खबर को  ढूंढता हूँ |
                                                   प्रवेश

Friday, December 24, 2010

पहाड़ी

पहाड़ी 

एक बार मेरे मित्र  को 
एक सज्जन ने कह  दिया  पहाड़ी,
मित्र था गबरू   जवान  
फितरत से  थोडा  अनाड़ी |
चढ़ गया बोरा बिस्तर लेकर 
सज्जन की शामत आई
सज्जन मुझसे बोले 
इनसे हमें बचाओ भाई |
मैंने मित्र से कहा बंधुवर 
सज्जन पर  क्यों  बिगड़ते  हो,
इस छोटी सी बात पर 
क्या  तुम  हर  किसी  से लड़ते  हो?
मित्र बोले ये  अगर पहाड़ी
तुमको कह दे तो क्या  हो?
मैं बोला तो इस से अच्छा 
तुम ही बताओ और क्या हो?
हर तूफ़ान से टकरा जाये 
उसको पहाड़ी कहते   हैं,
हर किसी  के  काम  आये 
उसको पहाड़ी कहते हैं |
हर मुसीबत झेल जाये 
उसको पहाड़ी कहते हैं ,
मौत से भी खेल जाये 
उसको पहाड़ी कहते हैं |
कष्ट में भी घबराये 
उसको पहाड़ी कहते हैं ,
दर्द में भी जो मुस्काये 
उसको पहाड़ी कहते हैं |
धैर्य से जो काम ले 
उसको पहाड़ी कहते हैं ,
जी  चुराये  काम  से 
उसको पहाड़ी कहते हैं |
पहाड़ी का मतलब 
मित्र की समझ में गया,
सज्जन का पहाड़ी कहना 
भी उसको भा गया |
मित्र बोला आज  से पहले 
मैं था थोडा अनाड़ी ,
आज मुझको गर्व है        
जानकर कि मैं पहाड़ी |
                   प्रवेश 

Friday, December 17, 2010

आस -पास आजकल

आस - पास आजकल 
समय तेरी ही बलिहारी है,
हर ओर तेरी जयकारी है,
ऊँच -नीच और भेदभाव 
अब एक यही महामारी है |

सारा पैसे का खेल है , 
ब्याज कमीशन का ही मेल है , 
चलती का नाम तो गाड़ी था,
पर रूकती भी अब रेल है |

'चाय - पानी' ' घूस' का नाम है,
बेईमानी का ईनाम है ,
हाथ में सबके छुरी है ,
बगल में सबके दाम है |

रुपये की गुलामी होती है , 
दिन - रात सलामी होती है ,
अच्छी रकम लगाये कोई ,
बेटे की नीलामी होती है |

कपड़े की मिलें बदहाल हुई ,
इसमें किसकी क्या चाल हुई ?
ये तो साफ़ दिखाई पड़ता है,
चुनरी घटकर रूमाल हुई |

हालात बहुत ही बैड हुए ,
जीते जी पापा डैड हुए ,
खबर किसी को दे दो तो ,
पाओगे सबको  सैड  हुए |

हर रोज यहाँ नए दंगे हैं ,
आधे से ज्यादा नंगे हैं ,
पूरे भी नंगे होवें तो ,
नेता तो फिर भी चंगे हैं |

घर - घर में है संग्राम छिड़ा , 
राधा से अब तो श्याम लड़ा ,
राम - रावण तो लड़े ही थे ,
अब लक्ष्मण  से भी राम लड़ा |

कांटे ये दुनिया बोती है ,
काटते वक़्त क्यों रोती है ?
होनी का नामोनिशान नहीं ,
बस अनहोनी ही होती है |

वेदों को रट डाला है ,
पुराणों को पढ़ डाला है ,
जाने क्या - क्या पढ़ चुके हैं,
लेकिन अक्ल पर फिर भी ताला है |

पैसे वालों के नौकर  हैं ,
 अपने तो केवल दो कर हैं ,
नौ - कर वालों की मौज यहाँ ,
दो - कर वालों पे सौ -कर हैं |
                                                                                                                  प्रवेश

Thursday, December 16, 2010

भरोसे का आदमी

भरोसे का आदमी 
कभी राह चलते 
बन जाते हैं रिश्ते 
कभी रिश्ते निभाते 
 जुदा हो जाती हैं राहें 
कभी हमराह 
बन जाते हैं हमदर्द 
कभी हमदर्द भी 
बेगाने हो जाते हैं 
निभाते हैं साथ 
कुछ आखिरी दम तक 
कुछ दम तोड़ देते हैं 
बीच राह में 
खैर ! इस दुनिया में 
लोगो का 
मिलना बिछड़ना 
है लाजमी 
इस मेल और 
बिछोड में 
आसां नहीं मिलना 
भरोसे का आदमी |
                                       प्रवेश 

Monday, December 13, 2010

हाइकु - सौतेली माँ

सौतेली माँ 

अनुपम ने 
पाई माँ की ममता 
सौतेली माँ से |

बचपन में 
जब थक जाता था 
खेल - खेल में  |

माँ ने प्यार से 
सहलाया सिर को 
रख गोद में  |

बीता  शैशव 
लड़कपन आया 
बांह फैलाये |

चंद  दिनों में 
आ धमकी जवानी 
मूंछे निकली |

हो गयी शादी 
खूबसूरत पत्नी 
मन को भायी |

एक साल में 
हो गयी सौतेली माँ 
फिर   सौतेली |
                                प्रवेश

Sunday, December 12, 2010

माँ की व्यथा

                                                माँ की व्यथा


                                                                        आँचल की छाँव की,
                                                         जिन्हें पालने से पलायन तक ,
                                                            उन्होंने पलट कर नहीं पूछा,
                                                                    माँ अब कैसा हाल है ?

                                                               कहते हैं तुम्हारी जिंदगी , 
                                                                  जैसी भी थी ,कट चुकी ,
                                                                              अब तो हमारे
                                                                  भविष्य का सवाल है|

                                                          एक उथल पुथल है मन में ,
                                                          शायद आ जाएँ मय्यत पर,
                                                                      उन्हें माँ से ज्यादा ,
                                                        अपनी नौकरी का ख़याल है |
                                                                                                       प्रवेश

हाल - ए- दिल

                                                                   "हाल - ए- दिल "

                                                                 हाल - ए - दिल कैसे कहूं ?
                                                                      मिलते नहीं अल्फाज |
                                                             हाल -ए - दिल किससे कहूं ?
                                                                   प्रियतम नहीं मेरे पास |
                                                                   प्रियतम नहीं मेरे पास ,
                                                                    दरद किसको सुनाऊँ |
                                                                 अगर बात हो प्यार की ,
                                                                     वो भी किसे बताऊँ ?
                                                                   अब तो प्रेम लगता है ,
                                                                         झूठा मायाजाल |
                                                           कहे  'परमेश ' रे विरहिणी ,
                                                                     खुश रहो इसी हाल |
                                                                                                          प्रवेश

शराब


’kjkc

jktk dbZ cu x;s fHk[kkjh
’kjkc us mudh ,slh efr ekjh
eq>ls Hkh fj’rk tksM- ysxh ;s ’kjkc
Hkyk esjk ?kj dSls NksM- nsxh ;s ’kjkc\

nks ?kwaV ih vPNh yxh
fiykus okyksa dh ;kjh lPph yxh
esjk viuksa ls eqWg eksM- ysxh ;s ’kjkc
Hkyk esjk ?kj dSls NksM- nsxh ;s ’kjkc\

’kj dk vlj gS bl vkc esa
p<s lj rks fQj jgs [okc esa
,d fnu gj [okc rksM- nsxh ;s ’kjkc
Hkyk esjk ?kj dSls NksM- nsxh ;s ’kjkc\

ukStokuksa is jax bldk ,slk p<k gS
u cki u csVk u HkkbZ cM-k gS
iy esa tokuh fupksM- nsxh ;s ’kjkc
Hkyk esjk ?kj dSls NksM- nsxh ;s ’kjkc\

e; dh djkekr xtc dh gS I;kjs
dbZ ?kj QwWds dbZ ?kj mtkMs-
esjk ?kj Hkh bd fnu rksM- nsxh ;s ’kjkc
Hkyk esjk ?kj dSls NksM- nsxh ;s ’kjkc\
                                  izos'k

Saturday, December 11, 2010

लगाव


yxko


f}pfdzdk:< eSa futZu jkg ls xqtj jgk Fkk
rc eSaus ns[kk&&&
oks rfM+r ihfM+rk jtr o.kZ
,d LrEHk ds uhps iM+h gqbZA
ml foo’k ykpkj cspkjh ij
[kxjkt dh utjsa xM+h gqbZA
dqN lpsr vkSj dqN vpsr
izR;{k e`R;q ls fuHkZ; FkhA
gj lEHko iz;kl ls oks
thou la?k"kZ esa rUe; FkhA
mlus eq>dks ,sls ns[kk
tSls fd geesa fj’rk gksA
oks vUreZu ls cksy iM+h
rqe gh esjs Qfj’rk gksA
d:.kk QwV iM+h eu esa
d:.kk ls eu etcwj gqvkA
[kxjkt is dadM+ ns ekjk
[kxjkt ogkW ls nwj gqvkA
Xkksn esa mBk cspkjh dks
eSa vius lax rks ys vk;kA
x`gLokeh ls laokn fd;k
rc ?kj esa nkf[ky djok;kA
?kj dh TkM+h cwfV;ksa ls gh
fQj mldk mipkj fd;kA
oS| ejht ds fj’rs ls Hkh
T;knk mldks I;kj fd;kA
I;kj & eksgCcr vkSj nok ls
Mlesa dqN lq/kkj gqvkA
mldh Hkksyh lwjr ls
x`gLokeh dks Hkh I;kj gqvkA
pkj fnuksa ds lkFk esa
mlls fj’rk lk Fkk tqM+ x;kA
vk;k mldk lkFkh
ikWpos fnu lax ysdj mM x;kA
rc ls jkst izkr% esjs
vkWxu esa oks vkrh gSA
?kw& ?kw djrh nkuk pqxrh
Okkil ls mM+ tkrh gSA
Ekgt  pkj fnu esa gh
,d iaNh viuk gks tkrk gSA
vQlksl ;s I;kj dh ckrsa
vkt balku le> ugh ikrk gSA
                           izos'k

नारी मन


ukjh eu

lkjs tx esa ?kwe fy;k rw ij D;ksa lkWph jkg u ikbZ
lkxj ukik /kjrh ukih ukjh eu dh Fkkg u ikbZ

rjg & rjg ds jax fn[kkoS
jax dbZ cs<ax  fn[kkoS
lksp jgk D;ksa ekFkk Fkkes O;FkZ xbZ rsjh prqjkbZ
lkxj ukik /kjrh ukih ukjh eu dh Fkkg u ikbZ

dksbZ bldks le> u ik;k
uk gh dksbZ le>k ik;k
ftlus Hkh ,slh dksf’k’k dh mlus mYVs eqWg dh [kkbZ
lkxj ukik /kjrh ukih ukjh eu dh Fkkg u ikbZ

vkt tks psgjk ftankfny gS
mles fNik dy dk dkfry gS
ckr [kjh gh [kkjh ykxS lkaph fdldks jkl gS vkbZ
lkxj ukik /kjrh ukih ukjh eu dh Fkkg u ikbZ
                                         izos'k

Wednesday, December 8, 2010

बच्चे दो ही अच्छे


cPps nks gh vPNs

x/kk x/kh ls cksyk fiz;s
cPps gksaxs dsoy nks
ftlls gj [kq’kgkyh vkSj
lq[k & pSu gekjs ?kj esa gks
x/kh cksyh gs izk.kukFk
;s dFku rqEgkjs lPps gSa
bl eWgxkbZ dh ekj esa
nks gh cPps vPNs gSa
nks gh gksaxs cPps rks
ijofj’k Hkh vPNh ik;saxs
fcu ck/kk ds thou esa
vkxs gh c<rs tk;saxs
rHkh lkl dh ckr x/kh ds
tgu esa mrj vkrh gS
cPps pkgs ftrus gksa
lkl pkgrh ukrh gS
lklw ekW dh vkjtw
x/kh dks djuh iwjh gS
ftlds fy, x/kh dks ,d
x/kk tuuk t:jh gS
,d Hkh iksrk ugh lkl ds
Ikgys ls nks iksrh gSa
;gh lkspdj x/kh cspkjh
QwV& QwV dj jksrh gS
x/kk gh dqy dk nhid gS
;g ckr lkl ekurh gS
x/kh fdlh ls de ugh
bl ckr dks ugh tkurh gS 
x/kk vxj dqynhid gS rks
x/kh Hkh dqy dh vku gS
x/kk vdsyk D;k dj ysxk\
x/kh ls gh rks tgkWu gS
lklw ekW [kqn x/kh gksdj
;g ckr le> ugh ikrh gS
x/ks & x/kh dh nkSM esa
x/kh Hkh vOoy vkrh gS
x/kk lkl dks ykr ekjrk
x/kh ds ?kj gh tkrh gS
ns[kks dSlh foMEcuk gS
fQj Hkh pkgrh ukrh gS
x/kk & x/kh ds [ksy ls
esjs ;kj QSlyk rqe dj yks
nks gh cPps iSnk djuk
yMdk gks ;k YkMdh gks
                              izos'k

मेरा भारत महान


esjk Hkkjr egku
esjk Hkkjr egku
csjkstxkjh lcls T;knk
de djus dk Hkh oknk
eWgxkbZ dh ubZ nqdku
fQj  Hkh esjk Hkkjr egku
?kwl& ikr dk u;k tekuk
Hkjrk gS lcdk [ktkuk
lkS esa ls uCcs csbZeku
fQj  Hkh esjk Hkkjr egku
e;kZnk dk /;ku ugh gS
lPpkbZ dk eku ugh gS
ekuork dh ugh igpku
fQj  Hkh esjk Hkkjr egku
vkt ;gkW bu rhu dh [kkfrj
tj& tks: tehu dh [kkfrj
HkkbZ & HkkbZ dh ys jgk tku
fQj  Hkh esjk Hkkjr egku
dgkW jgs xkW/kh ls usrk
ysrk ugh ftruk gks nsrk
vc v;k’kksa ds gkFk deku
fQj  Hkh esjk Hkkjr egku
ubZ ih<h ds Hkz"V fopkj
eqf’dy gS ftuesa lq/kkj
Hkys & cqjs dk ugh gS Kku
fQj  Hkh esjk Hkkjr egku
cpk ,d Hkh cq} ugh gS
xaxkty Hkh ’kq} ugh gS
xaxk cu xbZ dwMknku
fQj  Hkh esjk Hkkjr egku
                           izos'k

निठारी : मासूमों का कब्रिस्तान


fuBkjh eklweksa dk dfczLrku

D;k ’ksj ’ksj dks [kkrk gS\
D;k ’oku ’oku dks [kkrk gS\
Ekkuo D;ksa ekuo [kkrk gS\
;gh iz’u eq>s lrkrk gSA

gj  ftLe dkV fy;k rwus
gj vax NkWV fy;k rwus
dSls ekuo dgyk;s rw
tc [kqn dks ckWV fy;k rwus

rsjh gol iru dk dkj.k gS
djrk D;ksa bldks /kkj.k gS
gol rw viuh R;kx ns
mRFkku gsrq ;gh fuokj.k gS

ekrk ij tqYe fd;k rwus
cfguk ij flre fd;k rwus
iRuh rks ijk;h csVh  gS
ml ij D;k jge fd;k rwus

cMh I;kjh rsjh cksyh gS
lwjr Hkh rsjh Hkksyh gS
dSls fo’okl d:a rq> ij
tkus D;k rw gh dksyh gS

nkSyr ls rw dqcsj gS
vDy esa lcls ’ksj gS
ekVh rsjh nkSyr vDy
vxj rw Hkh ,d ia/ksj gS



nkSyr ds lc dk;y gSa
fu/kZurk ls ?kk;y gSa
dqN rks gkykr dh ekjh gSa
dqN ethZ ls gh ik;y gSa

lekt esa dbZ nq’kklu gSa
gj vksj mUgh dk ’kklu gS
va/kk rks Fkk gh dkuwu
xwaxk cgjk Hkh iz’kklu gS

dbZ dks[ksa gqbZ cjckn
vkSykn djs ekW dh Qfj;kn
fQj Hkh dkuwu dh nsrs nkn
gR;kjs ?kwe jgs vktkn

fj’or ls ;s /ku tksMrs
ljdkjh dqflZ;kW rksMrs
dsoy viuk vf/kdkj tkurs
vkSj QtZ ls eqWg eksMrs

turk is vkx mxyrs gSa
funksZ"k is MaMs pyrs gSa
eqtfje rks cp fudyrs gSa
;s cs’keZ gkFk gh eyrs gSa

gR;kkjksa dk ugh lkuh gS
;s ckr lHkh us tkuh gS
gSoku dk fny Hkh ngyk ns
jp Mkyh ,slh dgkuh gS



bTtr Hkh ywVh tku Hkh
ekQ djs rq>s Hkxoku Hkh
djrwrssa dh rwus ,slh
’kjek x;k ’kSrku Hkh

iwjh nqfu;k gh vkgr gS
fQj Hkh viuh pkgr gS
ekuork gks cnuke ugh
rks fny dks feyrh jkgr gS

lkjs tx dks iSxke gS
eks{k iq.; dk bZuke gS
iki dk HkkaMk QwVk rks
tx esa gksrk cnuke gS
                                     izos'k